Dreamer

वो पंखों का इंतजार करते रहे उडने की ख़्वाहिश में
कोई अपने ख़्वाबों के सहारे ऊंचाईया छू गया

Aai

Now he lived in his flat, an independent grown up.
He picked up a call, countless instructions and innumerable suggestions with a loving “Bye and take care”. By the time the call ended his mom reminded him he was still just a child.

Homebound

He had sparkling eyes and a broad smile across his face today.
Someone asked, “Did she said yes, finally?”
He answered, “No she didn’t yet, but my ticket just got confirmed, finally. ”

मैं हूं कागज़ का टुकड़ा

मैं हूं कागज़ का टुकड़ा
क्या सुनाऊ तुम्हें अपना दुखड़ा
हर किसी के गम को सँवारा
बन गया आशिक मैं आवारा
कभी मैं वो पहली चिठ्ठी था
तो अगले क्षण संग मिट्टि था
खुशिया भी मैने काफी पाई
बहन की राखी मैने ही संग लाई
बचपन कि वो पर्ची था
या वो ऑफ़िस कि अर्जी था
कभी तो बच्चो कि बाॅल भी मैं था
या किसी कि शाॅल भी मैं था
किसी कि लिखावट ने शान बढ़ाई
एक दस्तखत ने रुकवाई लड़ाई
उन सब के साथ मे अपने गम तो भूल ही गया
किसी किताब का साथ छोडे आज अरसा बित गया
उस पेड के टुटे पत्ते कि तरह
आज भी बरदाश्त करता हु जुदाई
उसी की तरह मिट्टि मे मिल के
ले लुंगा तुमसे विदाई
मैं हूं कागज़ का टुकड़ा
क्या सुनाऊँ तुम्हे अपना दुखड़ा

Din to pehla hi kafi tha

Din to wo pehla hi kafi tha, par mai thoda aur waqt chahta tha,
Jan to pehle hi gaya tha, par thoda aur Jan na chahta tha,
Teri wo pyari aankhein ho, ya ho wo lehrate baal,
Sabne mil k hi shayad, kiya tha bura mera haal,
Baatein to baad me shuru hui, par sirf dekh k hi khush hota tha,
Teri Bas ek hasi din me shayad, wahi dekhne mai kahi jata tha,
Baatein badhi mulakate badhi, ya wo tasveero ka silsila,
Har tute hue purje ko mere, jaise koi marham mila,
Tujhse baat na ho pane ka shikwa, teri tasveero ne kuch kam kiya,
Teri har ek bariki ko niharne me hi, shayad maine kuch jiya,
Teri tarif me jo bhi kahu, sab kam hi Mujhe lagta tha,
Din to wo pehla hi kafi tha, bas mai thoda aur waqt chahta tha.

When you trust someone the first time you look at her but take your own time to know her more